Wisdom (1268 in 1 year | sorting by most liked)

जब रिश्ता नया होता है ।।।।।
तो लोग बात करने का बहाना
ढ़ुढ़ते है।।।।।।।।।।।
और जब वही रिश्ता ।।।।।
पुराना हो जाता है ।।।।।।
तो लोग दूर होने का बहाना ढूढ़ते है ।।।।।।👌

 
3565
 
364 days
 
DDLJ143

ठोकरें ख़ाता हूँ पर
"शान" से चलता हूँ
मैं खुले आसमान के नीचे
सीना तान के चलता हूँ
मुश्किलें तो "साज़" हैं ज़िंदगी का
"आने दो-आने दो".....
उठूंगा , गिरूंगा फिर उठूंगा और
आखिर में "जीतूंगा मैं ही"
ये ठान के चलता हूँ.🙏🏻

 
2814
 
357 days
 
t@hir1986

हर किसी के अन्दर अपनी
"ताकत"और अपनी"कमज़ोरी"
होती है

"मछली"जंगल मे नही दौड़
सकती और"शेर"पानी मे राजा
नही बन सकता.....!!

इसलिए
"अहमियत"
सभी को देनी चाहिये....!🙏

 
2641
 
279 days
 
anil Manawat

*कितनी खूबसूरती से लिखा है एक पति ने*👌🏻😊

*शाँति और सूनापन.*

• मैं सोता हूँ,घर में शाँति छा जाती है...
*वो सोती है,घर में सूनापन छा जाता है ।।*

• मैं घर लौटता हूँ,घर में शाँति हो जाती है...
*वो घर लौटती है,घर में रौनक हो जाती है ।।*

• मैं सोकर उठता हूँ, घर में फरमाईसें गूँजती हैं...
*वो सोकर उठती है,घर में पूजा की घंटियाँ गूँजती हैं ।।*

• मेरा घर लौटना ,उसका आत्मविश्वास बढ़ाता है...
*उसका घर लौटना, घर में लक्ष्मी व अन्नपूर्णा का "वास" होता है।।*

• पत्नि चुटकुलों में उपहास की पात्र नहीं है...
*वो हमसफर , रक्षक व परिवार की शक्ति है।।*

😊🙏🏻😊

 
2154
 
307 days
 
_N@jmi_

"हर रोज गिरकर भी,
मुक्कमल खड़े हैं...!

ए जिंदगी देख,
मेरे हौसले तुझसे भी बड़े हैं ...!!".....":

 
2061
 
265 days
 
t@hir1986

"सच" बोलने से हमेशा
'दिल' साफ़ रहता हैं,

"अच्छाई" करने से हमेशा
'मन' साफ़ रहता हैं,

"मेहनत" करने से हमेशा
'दिमाग़' साफ़ रहता हैं,🙏

 
1997
 
260 days
 
anil Manawat

जो व्यक्ति अपनी गलतियों के लिए खुद से लड़ता है,
उसे कोई भी हरा नहीं सकता !!

 
1931
 
263 days
 
t@hir1986

ज़रा सोचिये:
*उस पढाई का क्या मतलब, यदि हम कचरा रास्ते पे डालते है और अगली सुबह एक अनपढ के हाथो वह साफ होता है . . . . !*🙏

 
1742
 
298 days
 
anil Manawat

🌹🌹आज का विचार 🌹🌹

ज़िंदगी में सिर्फ़ " शहद " ही ऐसा है जिसको हज़ार साल के बाद भी खाया जा सकता है,

ओर "शहद "जैसी बोली से सालों साल तक लोगों के दिल में राज किया जा सकता है
🙏🙏🙏🙏🙏
🐚🐾☀🐾🐚

 
1641
 
266 days
 
DDLJ143

कोई_अनजान नहीं होता,
अपनी बेरूखी और खताओं से।
बस... हौसला नहीं होता,
खुद की नजरों में खुद को
कटघरे में लाने का!

 
1489
 
257 days
 
J_sT@R.
LOADING MORE...
BACK TO TOP