Wisdom (17115)

*गुरुर किस बात का साहब ?*





*आज मिट्टी के ऊपर तो कल मिट्टी के नीचे*🙏

 
129
 
16 hours
 
anil Manawat

कुछ लोग 'स्लीपर' चप्पल की तरह होते है।
साथ तो देते है पर पीछे से कीचड़ उछालते है।

 
142
 
17 hours
 
V!shu

जिस पर सब विषयों को संभालने की
जिम्मेदारी होती है, वो कॉपी अक्सर रफ़ बन जाती है !!!
परिवार में जिम्मेदार इन्सान का भी यही हाल है....🙏

 
177
 
a day
 
anil Manawat

मंदिर, मस्जिद और गिरजाघर में ही क्यों ढूंढते हो मुझे..
.
मैं तो वहाँ भी हूँ,
जहाँ तुम पाप करते हो.....
.
शुभप्रभात 🙏🚩🇮🇳

 
104
 
a day
 
amitsharma

घमंड

शराब की तरह है
आपके अलावा सबको पता है की आपको चढ गयी है।

 
253
 
a day
 
"Ipsh!t@"

*न किस्सों में, और न किस्तों में,*

*जिंदगी की खूबसूरती है चंद सच्चे रिश्तों में* !!!!🙏

 
287
 
2 days
 
anil Manawat

माँ के लिए जितना लिखूं माँ का उतना ही कद बढ़ जाता है
मेरी कलम टूट जाती है और आँखों से अश्क़ छलक जाता है...!!

 
79
 
3 days
 
Ms khan

आधी ज़िंदगी गुज़ार दी हमने
"पड़ते पड़ते" और सिखा क्या....??

एक दूसरे को नीचा दिखाना..!🙏

 
280
 
4 days
 
anil Manawat

*ये जो "माँ" की मोहब्बत होती है ना,*

*ये तमाम मोहब्बतो की "माँ" होती है.!* 💐

 
172
 
4 days
 
V!shu

"अगर दिल मे इज्जत और रिश्तों मे प्यार हो तो..!
हौसले हमेशा.. हालात पर भारी पड़ते है.....✔️

 
240
 
4 days
 
DDLJ143
LOADING MORE...
BACK TO TOP