Smile (846)

सुनों...सब कुछ छोड़ देना पर मुस्कराना और उम्मीद कभी ना छोड़ना...😊

 
48
 
a day
 
RVivek

दफ़्तर से निकलो तो मुस्कुराहट खरीद लिया करो जनाब

तुम्हारी हंसी देखकर फिर पूरा 'घर' मुस्कुराता है..!😄😄😄😄😄

 
80
 
10 days
 
Ak47

*खुल कर तारीफ़ भी किया करो, दिल खोल हँस भी दिया करो,*

*क्यूँ बाँध के ख़ुद को रखते हो, पंछी की तरह भी जिया करो..*

 
315
 
109 days
 
Mits9022

किसी वजह की तलाश में वक्त ना गवाया कर ऐ दोस्त...
बेवजह, बेपरवाह, बेझिझक बस मुस्कुराया कर दोस्त....!

 
229
 
112 days
 
RVivek

*कुछ बयां कर देता हूं. कुछ छूपा लेता हूं*

*मै अपनी मुस्कान से ही खूद को मना लेता हूं*

 
345
 
139 days
 
Mits9022

स्कुल के सामने से नीकलते ही वो सारी यादे...सारे किस्से याद आ जाते है

वो लडाकु और जान निसार दोस्त याद आते है😈😉 ..👬👫

वो बचपन के किस्से फिर से ईस रूखे से चहेरे पे मुस्कुराहट और दिल को फिर सै बच्चा बना जाते है।😊😅😂😍
#Missing School days😐😊

 
287
 
192 days
 
Gabbar143

💛💛🎙🎙💚💚

*मेरी पोस्ट पढ़कर smile तो करते ही हो*💛









*कभी कभी*

*मेरी पोस्ट पर comment और like करके*
*मुझे भी smile करने का मौका दो*

🙏🙂

 
604
 
356 days
 
25th NOVEMBER

Kitty Special Poetry by me
जमाने भर की परेशानियों से कुछ देर पीछा छुड़ा लेती हैं हम,
किट्टी के बहाने
ज़रा मन बहला लेती हैं हम।
👛👜👓🕶💄💅
थोड़ा सा हंसना ,थोड़ा खिलखिलाना  थोड़ा एक दूसरे का मज़ाक बनाना,
उस हंसी के पीछे
सारे दर्द छुपा लेती हैं हम,
किट्टी के बहाने
ज़रा मन बहला लेती हैं हम।
😀😃😆😅😂😂🤣
तम्बोला में कभी जीत जाना
कभी सिर्फ एक मनचाहे नम्बर का ना आना,
पंक्च्यूएलटी निकले या नही
पर मजे उड़ा लेंतीं हैं हम,
किट्टी के बहाने
ज़रा मन बहला लेती हैं हम।
🔖✏🔖✏🔖✏🔖
वैजिटेरियन खाने के साथ नाॅन वैज जोक
ना किसी की रोक ना किसी की टोक
ऐसे कुछ हलके फुलके
लम्हें बिता लेती हैं हम,
किट्टी के बहाने
ज़रा मन बहला लेती हैं हम।
🍱🍛🥗🍮🍧🍹🍸
कभी रैटरो थीम पर सजना
कभी बाॅलीवुड थीम पर संवरना,
खुद को एक दिन की
हीरोइन बना लेती हैं हम,
किट्टी के बहाने 
ज़रा मन बहला लेती हैं हम।
💃💃💃💃💃💃💃

 
221
 
361 days
 
dre@m_factory

Happiness is the Only Thing in The World,That Cannot be Paid by Any Diamonds
Gold
Or
Money 😎

 
809
 
388 days
 
Anonymous

जब भी गर्मी का मौसम आता है तो अचानक मेरे जेहन में चाचा चौधरी और राका का बदला, नागराज, सुपर कमांडो ध्रुव, बांकेलाल, राजन इक़बाल, राज कॉमिक्स, मनोज कॉमिक्स, इंद्रजाल कॉमिक्स...का ख्याल आने लगता है।

याद आती है वो देसी लाइब्रेरी जो गर्मी आते ही हर चौक पर खुल जाती थी।

50 पैसे किराया। इस बात का डर की 24 घंटे से ज़्यादा हो गए तो 1 रुपये लग जाएंगे।

दोस्तों का शानापन... 4 दोस्त मिलकर 4 अलग अलग कॉमिक्स लाएंगे और पढ़ने के बाद एक्सचेंज कर लेंगे।

लाइब्रेरी वाले का शानापन... नई हिट कॉमिक्स आएगी तो सिर्फ 4 घंटे के लिए किराये पर देगा।

वो तपती धूप में कॉमिक्स के लिए सूरज से लड़ना.....

🌞सूरज से तो अब भी लड़ रहे हैं। गर्मी फिर लौट आई है।
यारो.. बस वो बचपन नहीं लौट रहा.....
😊

 
423
 
417 days
 
DDLJ143
LOADING MORE...
BACK TO TOP