Shayari (25 in 1 week | sorting by most liked)

💕 बंजर नहीं हूँ मैं, मुझमें बहुत सी नमी है,

दर्द बयां नहीं करता, बस इतनी सी कमी है !!

 
304
 
6 days
 
Yogesh rampuria

अल्फाज बेहद खुबसूरत होते है,
पर खामोशी की तो बात ही अलग है !!

 
302
 
6 days
 
aaakash

भूलने वाले बेफ़िक्र हैं..

याद करने वाले तड़प रहे हैं..💔

 
287
 
5 days
 
aaakash

*मेरे ऐबों को तलाशना बन्द कर देगें लोग,*
*मैं तोहफ़े में उन्हें अगर एक आईना दे दूँ I*

 
246
 
5 days
 
Veeshal.joshee

*दिलों में रहता हूँ.... धड़कने थमा देता हूँ..

*मैं इश्क़ हूँ.......वजूद की धज्जियां उड़ा देता हूँ...💔

 
192
 
5 days
 
Nishan1306

*सदियों पुराना है इंसान...*

*कहीं से तो खराब होगा ही...*

 
170
 
3 days
 
Veeshal.joshee

ये मोहब्बत बड़ी दिलचस्प चीज़ है यारों

कोई दिल से करता है
कोई जिस्म से करता है
कोई खूबसूरती से करता है
कोई सादगी से करता है
कोई इमान से करता है
कोई इनाम से करता है
कोई लफ्जो़ से करता है
कोई खामोशी से करता है

किसी को मिल जाती है अपनी मोहब्बत
अौर कोई उम्र भर तरसता है।

 
170
 
3 days
 
@nkit

न कर इस क़दर परेशान ए ज़िंदगी मुझको

कहीं ऐसा न हौ वक़्त से पहले ही तेरा साथ छोड़ जाऊ.........

 
154
 
a day
 
Karan .B. Patel

ज़रूरी नहीं कि सबका दोस्त बना जाए.......
कुछ लोगों से दुश्मनी का भी अपना मज़ा है .....

 
150
 
2 days
 
Abhilekh.......

गज़ब की बेरुख़ी छाई है तेरे जाने के बाद...
अब तो #selfie लेते वक़्त भी मुस्कुरा नहीं पाते...

 
148
 
2 days
 
@nkit
LOADING MORE...
BACK TO TOP