Shayari (7 in 1 week | sorting by most liked)

वो कह कर चले गये की "कल" से भूल जाना हमे...

हमने भी सालों से "आज" को रोके रखा है...!!

‪शादियाँ गुज़ार दी मैंने तेरे इंतज़ार में , काश की कभी ऐसा हो की तुम आओ और वक़्त वही ठहर जाए ❤️‬

 
37
 
2 days
 
Mrjha

बस एक ही ख्वाहिश है
इस दिल की ...

काश कोई मुझ जैसा
इश्क मुझसे भी करता...

 
35
 
10 hours
 
V!shu

पेड़ कटते गए,
फिर न जाने मेरे शहर जंगल सा क्यों है।

 
34
 
5 days
 
KUSUMRAJ

Breakup shayri
पत्ता शजर से टूट कर बे वज़न हो गया
.
.
*उड़ने लगा जिधर भी उड़ाने लगी हवा

 
29
 
3 days
 
Ra-one

जब दुनया में गम बट रहा था सबने अपने अपने हीस्से का गम ऊठाया जब मेरी बारी आयी मेंने फेवीस्टीक उठाया जो साला चुटकी में चीपक गया 🤣

 
20
 
3 days
 
Tushar5699

अब जो रिश्तों में बँधा हूँ तो खुला है मुझ पर

कब परिंद उड़ नहीं पाते हैं परों के होते

 
8
 
8 hours
 
News Akki
LOADING MORE...
ALL MESSAGES LOADED
BACK TO TOP