Shayari (76 in 1 month | sorting by most liked)

*क्या बेचकर हम खरीदे तुझे ऐ जिंदगी,*

*सब कुछ तो 'गिरवी' पडा है 'जिम्मेदारी' के बाजार में!!!!!*👍👍

 
456
 
20 days
 
@HeartBreaker

एहसासों की नमी बेहद जरुरी है हर रिश्ते में ,,
रेत भी सूखी हो तो हाथों से फिसल जाती है !!✍🏻

 
449
 
29 days
 
"Ipsh!t@"

*शुक्र है कि मौत सबको आती है*
*वरना अमीर तो इस बात का भी* *मजाक उड़ाते*
*कि वो गरीब था इसलिए मर गया।*

 
405
 
25 days
 
aaakash

*मेरी मोहब्बत का अंदाजा मत लगाना मेरी जान....!!*

*हिसाब मैं लूंगा नहीं, और चुकता तुम कर नहीं पाओगी....!!*😍😍

 
390
 
27 days
 
aaakash

मुझे इंतज़ार करना आता है,
बस तूम लौटना सीख लो !!❤

 
390
 
25 days
 
aaakash

ज़िंदगी तुम बहुत खूबसूरत हो,इसलिए मैंने!

तुम्हें सोचना बंद,और जीना शुरू कर दिया है।।😘😘😘

 
389
 
14 days
 
User27883

यकीन करना सीखिए साहिब

शक तो सारी दुनिया करती है...!!!

 
387
 
10 days
 
aaakash

काश...बनाने वाले ने थोड़ी-सी
होशियारी और दिखाई होती...
इंसान थोड़े कम और इंसानियत
ज्यादा बनाई होती...!✍🏻

 
378
 
27 days
 
"Ipsh!t@"

" हाँ, थोड़ा थक गया हूँ, दूर निकलना छोड दिया,
पर ऐसा नही की मैंने चलना छोड़ दिया,

फासले अक्सर रिश्तो में दूरी बढ़ा देते हैं,
पर ये नही की मैंने दोस्तों से मिलना छोड दिया,

हां जरा अकेला हूँ दुनिया की भीड में,
पर ऐसा नही है कि मैंने दोस्ताना छोड दिया,

याद तुम्हें करता हूं दोस्तों, और परवाह भी,
बस कितनी करता हूं, ये बताना छोड़ दिया "

 
351
 
16 days
 
suru

*🌹जब भी निकलना चाहा तेरी यादों से इक पहरा सा नज़र आया.....*

*घर में आईने कई बदले मगर इक तेरा ही चेहरा नज़र आया.....*

 
342
 
14 days
 
Bewafa Parveen
LOADING MORE...
BACK TO TOP