Shayari (2 in 1 day | sorting by most liked)

बस एक ही ख्वाहिश है
इस दिल की ...

काश कोई मुझ जैसा
इश्क मुझसे भी करता...

 
34
 
9 hours
 
V!shu

अब जो रिश्तों में बँधा हूँ तो खुला है मुझ पर

कब परिंद उड़ नहीं पाते हैं परों के होते

 
8
 
8 hours
 
News Akki
LOADING MORE...
ALL MESSAGES LOADED
BACK TO TOP