Shayari (18629)

Kitna Dur Nikal Gye Riste
Nibhate Nibate, Khud Ko Kho
Diya Humne Apno Ko Pate Pate,
Log Kahte Hai Dard Hai Mere
Dil Me, Aur Hum Thak Gye
Muskurate Muskurate..
💟💟💟💟💟💟💟

 
30
 
6 hours
 
@Nn@

*ये ना पूछना*

*ज़िन्दगी ख़ुशी कब देती है,*

*क्योकि शिकायते तो उन्हें भी है*

*जिन्हें ज़िन्दगी सब देती है*..

 
134
 
15 hours
 
aaakash

बड़े खुश थे हम ये सोचकर कि रात भर उनसे बात होगी।
मगर बेरूखी का आलम तो देखिए हुज़ूर
हम इंतेज़ार हि करते रह गए अौर वो आए ही नही।।

 
53
 
16 hours
 
@nkit

मींद उसे, बस उसे ही आती है..,
हमारी तो बस आँखों में, रात गुज़र जाती है.!

 
29
 
a day
 
Jasmine

जब भी उनका चेहरा देखा, अलग ही नज़र आया,
इन्सान ने भी क्या,,.... रंग बदलने का हुनर पाया।।

 
154
 
4 days
 
User27883

ऐ ज़िन्दगी तू सिर्फ राह दिखा,,,
हर क़दम फ़ैसला हमारा होगा,,,

 
129
 
4 days
 
"Am@rdeep"#

```Kahani nhi zindgi chahiye,,


Tujhsa nhi,,tu chahiye..```

💔🏌🏻

 
121
 
4 days
 
aaakash

```saal guzr jaate hai..



yaaden nhi guzrti..```

💔🏌🏻

 
81
 
4 days
 
aaakash

इरादा है, तो पहले डर निकालो

जो उड़ना चाहते हो, तो पर निकालो

मेरे मुँह पर मेरी तारीफ़ कर ली

चलो अब मैंने पीठ कर ली खंज़र निकालो 🙏

 
189
 
5 days
 
"Ipsh!t@"

आस्तीनो के साँप से मुझे ख़तरा कैसा ......
फ़क़ीर हो जो ख़ुद उसे लुट जाने का ख़तरा कैसा ...
काटोगे मुझे तब भी तुम्हें ऐसे ही पालूँगा....
निकाला अगर तुम्हें तो मैं तुम्हारा रहनुमा कैसा .....

 
69
 
6 days
 
Abhilekh.......
LOADING MORE...
BACK TO TOP