Shayari (18247)

काश ऐसी भी हवा चले...

कौन किसका है पता तो चले !!!

 
41
 
4 hours
 
Veeshal.joshee

गलत वे नहीं थे ...
जिन्होंने हमें धोखा दिया,
गलत हम ही थे ,
जिसने उन्हें मौका दिया !!

 
35
 
4 hours
 
User27883

गैरमुकम्मल सी ज़िंदगी वक्त की बेतहाशा रफ़्तार ,

रात इकाई,नींद दहाई,ख्वाब सैकड़ा, दर्द हजार...

 
103
 
a day
 
aaakash

" जिसके जाने से जान जाती थी...
.
.
हमने उनका भी जाना देखा है.,❤

 
63
 
a day
 
aaakash

मौत अंजाम-ए-ज़िंदगी है मगर
लोग मरते हैं ज़िंदगी के लिए

अजब से है हालात आजकल कुछ समझ नहीं आता .......
आख़िर क्यूँ ऐसे हालात में कोई अपना नज़र नहीं आता .....

 
143
 
a day
 
Abhilekh.......

सौ घूँट पिया शराब का इल्ज़ाम न कोई हुआ
एक प्याला छलका इश्क़ का, बदनाम हो गया!!!!

 
131
 
2 days
 
aaakash

इश्क़ को जब हुस्न से, नज़रें मिलाना आ गया;

ख़ुद-ब-ख़ुद घबरा के, क़दमों में ज़माना आ गया!✍🏻

 
93
 
2 days
 
"Ipsh!t@"

सारे रिश्ते मानो बेमानी से हो गए जब हम नामचीन से बेनामी से हो गए .....

 
41
 
2 days
 
Abhilekh.......

मैं हूँ दिल है तन्हाई है
तुम भी होते अच्छा होता

 
119
 
3 days
 
Basu
LOADING MORE...
BACK TO TOP