Shayari (19206)

गैर ले महफ़िल में बोसे जाम के 
हम रहें यूँ तश्ना-ऐ-लब पैगाम के 
खत लिखेंगे गरचे मतलब कुछ न हो 
हम तो आशिक़ हैं तुम्हारे नाम के 
इश्क़ ने "ग़ालिब" निकम्मा कर दिया 
वरना हम भी आदमी थे काम के

 
14
 
a day
 
Ra-one

💞 *मेरे लफ्ज मेरी शायरी* 💞

*सो गई हैं शहर की सारी गलिया,*


*अब रात भर जागने की बारी मेरी है......!!*

 
30
 
2 days
 
Mits9022

Wo jo ek shakhs hi nai milta le kr hum saari kainat kya karenge♥

 
27
 
3 days
 
Blackheart_ayan

🌹नजर में आपकी नज़ारे रहेंगे
पलकों पर चाँद सितारे रहेंगे🌹

🌹बदल जाये तो बदले ये ज़माना
हम तो हमेशा आपके दीवाने रहेंगे🌹

 
116
 
4 days
 
User17127

मुद्दतें हो गयीं... उनसे हिसाब किये,

क्या पता कितने रह गये हैं उनके दिल मे हम ...

 
135
 
5 days
 
Parveen Unlucky

कुछ ख़ताएँ बख़्शी नहीं जाती , दिल सोच समझ कर तोड़ा कीजिए 💔😢

 
71
 
5 days
 
amit 19

हमें भी तो हिसाब दे दे ए जिंदगी...
अपनी इस बेवफाई का....

 
48
 
7 days
 
uk_express

दो आईने को देखकर देखा किया तुझे।।।।। तेरी आंखों में डूबकर देखा किया तुझे।।।।। सुन ले जरा क्या कह रही तुमसे मेरी निगाह।।।।।खामोशियों से बोलकर देखा किया तुझे।।।।। लहरें तो आके रूक गईं साहिल को चूमकर।।।।। आंसू पलक में रोककर देखा किया तुझे ।।।।।। तेरी उदासियों में तस्वीर है मेरी ।।।।। ।।।ये सोच के बस एकटक देखा किया तुझे

 
42
 
8 days
 
amit 19

खत की खुशबू बता रही थी___


लिखते वक़्त उसके बाल खुले थे___√√😍

 
128
 
9 days
 
Taraa

*"इश्क़" ........वो नीम की डाली है ,*
*जिसका ...नया पत्ता ही ...मीठा लगता है...!!*🌿

 
194
 
14 days
 
aaakash
LOADING MORE...
BACK TO TOP