Jainism (90 in 1 year | sorting by most liked)

😷... अमृत वाणी ...😷

*जिन्दगी जब देती है,*
*तो एहसान नहीं करती*
*और जब लेती है तो,*
*लिहाज नहीं करती*

*दुनिया में दो \'पौधे\' ऐसे हैं*
*जो कभी मुरझाते नहीं और*
*अगर जो मुरझा गए तो उसका*
*कोई इलाज नहीं।*
पहला - *\'नि:स्वार्थ प्रेम\'*
और दूसरा - *\'अटूट विश्वास\'*

*""सदा मुस्कुराते रहिये""*
*🌹हँसते रहिये हंसाते रहिये🌹

 
565
 
325 days
 
N.v.jain

*रोने से तो आंसू भी पराये हो जाते हैं,*
*लेकिन मुस्कुराने से...*
*पराये भी अपने हो जाते हैं !*
*मुझे वो रिश्ते पसंद है,*
*जिनमें " मैं " नहीं " हम " हो !!*


*इंसानियत दिल में होती है, हैसियत में नही,*
*उपरवाला कर्म देखता है, वसीयत नही..*

 
510
 
346 days
 
N.v.jain

*इस फरेबी दुनिया में*
*मुझे दुनियादारी नही आती*

*झूठ को सच साबित करने की*
*मुझे कलाकारी नही आती*

*सुर्खियों में बने रहने की*
*मुझे चाटुकारी नही आती*

*जिसमें सिर्फ मेरा हित हो*
*मुझे वो समझदारी नही आती*

*शायद मैं इसीलिए पीछे हूं*
*मुझे होशियारी नही आती*

*बेशक लोग ना समझे मेरी वफादारी*
*मगर 'यारो, मुझे गद्दारी नही आती'*

 
441
 
298 days
 
N.v.jain

🙏शुभप्रभात🙏

"तन की खूबसूरती एक भ्रम है..!
सबसे खूबसूरत आपकी "वाणी" है..!
चाहे तो दिल "जीत" ले..!
चाहे तो दिल "चीर" दे"!!
इन्सान सब कुछ कॉपी कर सकता है..!
लेकिन किस्मत और नसीब नही..!
"श्रेय मिले न मिले,
अपना श्रेष्ठ देना कभी बंद न करें.

💐💐💐💐💐💐💐💐
आपका दिन शुभ हो मंगलमय हो

 
397
 
330 days
 
N.v.jain

🌹 *किसी भी रिश्ते को जीवंत रखने के लिये हृदय से प्रेम अति आवश्यक है...!!!"*
*लोग अफ़सोस से कहते है की*
*कोई किसीका नहीं,*
*लेकिन कोई यह नहीं सोचता की*
*हम किसके हुए !!*🌹

 
329
 
302 days
 
N.v.jain

🌻🌻 *सुप्रभात*🌻🌻
🙏🙏💐🙏🙏

जिंदगी में पीछे देखोगे तो *"अनुभव"* मिलेगा...,
जिंदगी में आगे देखोगे तो *"आशा"* मिलेगी...,
दांए-बांए देखोगे तो *"सत्य"* मिलेगा...,
लेकिन अगर भीतर देखोगे तो *"परमात्मा"* मिलेगा...,
*"आत्मविश्वास"* मिलेगा...।

*हमेशा खुश रहिए ताकि दूसरे भी आपसे खुश हो जाएँ।*🌞

👏आपका दिन शुभ हो..🌹😊🌹

 
322
 
336 days
 
N.v.jain

*पत्थर में एक ही कमी है,*
*कुछ भी करों वह पिघलता नहीं*
*लेकिन उसकी एक ही खूबी है*
*वह कभी बदलता भी नहीं*
😌
*फर्क शब्दों का ....*
🌞
*जो लोग मन मे उतरते है*
*उन्हें "संभालकर" रखिये*

*जो लोग मन से उतरते है*
*उनसे "संभलकर" रहिये*

 
305
 
354 days
 
N.v.jain

ठोकरें ख़ाता हूँ पर
"शान" से चलता हूँ
मैं खुले आसमान के नीचे
सीना तान के चलता हूँ

मुश्किलें तो "साज़" हैं ज़िंदगी का
"आने दो-आने दो".....
उठूंगा , गिरूंगा फिर उठूंगा और
आखिर में "जीतूंगा मैं ही"
ये ठान के चलता हूँ.....
🌷🌾🙏🌾🌷

 
271
 
359 days
 
N.v.jain

🍃🍃🍃🍃🍃🍃🍃
*आज का मीठा मोती*

*ख़ुशी* उनको नही मिलती
जो अपनी शर्तों पे
ज़िन्दगी जिया करते है
*ख़ुशी*उनको मिलती है
जो दुसरो की *ख़ुशी* के
लिए अपनी शर्ते बदल
लिया करते है।
🌞🙏 *सुप्रभात* 🙏🌞
🌞🙏 *जय जिनेंद्र* 🙏🌞
🍃🍃🍃🍃🍃🍃🍃

 
264
 
338 days
 
N.v.jain


👉🏻 *"क्षमा" कितनी खुशनसीब है जिसे पाकर लोग अपनों को याद करते है,*

👉🏻 *"अहंकार" कितना बदनसीब है जिसे पाकर लोग अक्सर अपनों को ही भूल जाते है..

🙏🌹सुप्रभात🌹🙏

 
263
 
348 days
 
N.v.jain
LOADING MORE...
BACK TO TOP