Amazing Info (504 | sorted randomly)

बराक ओबामा के बारे में रोचक तथ्य

1. केन्या की स्वाहिली भाषा में Brack Obama का मतलब है ऐसा शख्स जो कि सौभाग्यशाली है.

2. क्या आपको पता है कि हर पांचवा अमेरिकी ओबामा को मुस्लिम समझता है.

3. अगर ओबामा अमेरिका के राष्ट्रपति नहीं होते तो वो आर्किटेक्ट होते। हालांकि इस वजह से कई बार इंटरव्यू के दौरान सफाई भी देनी पड़ी है.

4. ओबामा को बच्चों से काफी प्यार है। यह प्यार इस हद तक है कि वो अपनी मीटिंग के बीच में बच्चों को गोद में उठा लेने से परहेज नहीं करते हैं.

5. ओबामा कहते हैं कि मेरी सबसे बुरी आदत लगातार अपने Blackberry Phone को चेक करते रहना है.

6. जब ओबामा हावर्ड में पढ़ रहे थे तो उन्होंने ब्लैक पिन-अप कैलेंडर में अपनी तस्वीर छपवाने के लिए आवेदन किया लेकिन आल फीमेल कमेटी ने उन्हें नकार दिया.

7. ओबामा Apple का Laptop इस्तेमाल करना ही पसंद करते हैं.

8. ओबामा लेफ्टी हैं यानी वो अपने बाएं हाथ से काम करते हैं। ओबामा America के छठवें ऐसे राष्ट्रपति हैं तो अपने बाएं हाथ से ही सारे काम करते हैं.

9. Brack Obama जब Indonesia में रहते थे तब उन्होंने एक बंदर का पाला था और इसे TATA नाम दिया था। उन्हें ताश के पत्ते खेलना और घसीटने का खेल पसंद है.

10. ओबामा ने जो कहा, वह किया यह भी साबित किया, कि अमेरिकी राष्ट्रपति कोई एलियन नहीं है। वह भी आम इंसान है जो परिवार के साथ छुट्टी मनाता है. पसंदीदा संगीत बजने पर पत्नी मिशेल को बांहों में भरकर नाचता है. सबके सामने चूमता है.

11. अमेरिकी राष्ट्रपति बराक हुसैन ओबामा अपने कॉलेज के दिनों से ही चेन स्मोकर रहे हैं. तब लोगों ने उनका निक नेम \'बराक ओगांजा\' रख दिया था.

12. बराक ओबामा ऐसे एकलौते राष्ट्रपति हैं जिन्होंने White House के भीतर बीयर बनाई है.

13. आपको यह जानकर भी हैरानी हो सकती है कि वह बचपन में कभी DOG और SNAKE का मीट भी खाते थे, लेकिन आज उन्हें COFFEE से भी परहेज है.

14. बराक ओबामा Harry potter के दीवाने हैं और वो इस सीरीज का हर उपन्यास कई बार पढ़ चुके हैं.

15. Brack Obama के पसंदीदा कलाकारों में Pablo Picasso का नाम सबसे ऊपर आता है.

16. अगर आपको लगता होगा कि ओबामा सिर्फ अंग्रेजी जानते हैं तो यह आपकी गलतफहमी है. ओबामा अंग्रेजी के अलावा स्पैनिश और इंडोनेशियन भाषा भी बहुत ही अच्छे से बोल लेते हैं और लिख भी लेते हैं.

17. ओबामा अगर किसी खेल को अपनी जिंदगी में लाना चाहते हैं तो, वो है बॉक्सिंग. ओबामा बॉक्सिंग को बेहद पसंद करते हैं,उनके पास विश्व प्रसिद्ध Muhammad Ali के ग्लव्स है.

18. ओबामा Icecream बेहद पसंद करते हैं। जब वो कम उम्र के थे तो आईस्क्रिम के लिए वो आईस्क्रिम की दुकान में पार्ट टाईम जॉब करने लगे.

19. जिन 3 लोगों का बराक ओबामा सबसे ज्यादा गुणगान करते हैं वे Mahatma Gandhi, Abraham Lincoln तथा Martin Luther King हैं.

20. 2008 में राष्ट्रपति के चुनाव के बाद अपनी पत्नी Michelle Obama को सिगरेट छोड़ने का वादा किया था, जिसे ओबामा ने निभाया. 2010 के बाद तो ओबामा सिगरेट को हाथ भी नहीं लगाते हैं.

 
49
 
399 days
 
B P S R

On 4th September there was a seminar in Delhi on the subject : Fever cure in 72 hours , where the key speaker on the topic was Dr. Biswaroop Roy Choudhury. In the seminar he stressed upon the fact that how much ignorant the common public is about the topic and how the doctors, at large, are making money out of the ignorance and fear in minds of the patients and their attendants.

He stressed that nowadays Dengue and chikengunia are the two types of viral fever, commonly prevalent and hospitals are running out of beds in Delhi NCR and other areas. He educated that the Virus hide between the cells and are not present in the blood stream and so they cannot be destroyed through medicines because the medicine work through blood only. Our body, which is a super computer, has its own mechanism to fight the virus. It raises its temperature beyond normal level to fight the bacteria/ virus. This causes us discomfort and dis-ease and we go to doctor for treatment. The doctor gives us medicine for fever and as the temperature comes down, the mechanism of the body is hampered and the virus is escaped and it remains inside the body and attacks again after some time.

Whenever there is any viral or bacterial attack body raises its temperature, throws out body waste in the form of loose motion, vomiting, cold and cough etc. and by taking medicine to control these conditions we simply harm our body.

Then question arises what to do in this situation. Dr Choudhury told that we have to monitor the body temperature and as it goes beyond 102.2 degree, we have to administer cold compress on head and calf muscles till the temperature comes down. Cold compress means, take four small towels and dip them into ice cold water, squeeze it and place it on head and one each on calf muscles after ecery 2-3 minutes, till the time the temperature comes to normal.
No medicine is to be taken in such scenario. He has formulated a three day diet chart for the patient, to follow and by doing this the patient will surely be cured. The diet plan is as under :-

Day-1.- divide your weight by 10 and that much number glasses of Mosumbi juice and equal quantity of Coconut water to be taken throughout the whole day. If the patient is 60 kg of weight then he must take 06 glasses of both the juices and no solid food.

Day-2. divide your weight by 20 and that much glasses of mosumbi juice and equal quantity of coconut water and weight X 5 grams of tomato + cucumber.

Day-3. divide your Weight by 30 and that much glasses of mosumbi juice and equal quantity of coconut water and weight X 5 grams of tomato + cucumber in lunch and normal home cooked food for dinner.

By taking these steps we can successfully cure any kind of viral/ bacterial fever in three days, without causing any harm to the body and without interrupting the body mechanism.
We need not panic during fever, cough/ cold/ vomiting/ loose motions but we must monitor the temperature and manage it as discussed above and supply sufficient fluids as discussed above. When we go to doctor/hospital they prescribe unnecessary test/ diagnostics to make money out of our fear and ignorance. The need of the hour is to educate ourselves and others also. Rest the body will do at its own.

Phone number of Doctor Biswaroop Roy Chodhury is 9312286540.
All the Best. Stay healthy and fit. Please do Yoga and Pranayam everyday to remain healthy and medicine/ doctor free for at least 100 years of age, as our ancestors used to live.

 
82
 
860 days
 
Jasmine

मृत्युभोज करना सही है क्या..????
😂😂😂😂😂😂😭😭
जिस परिवार मे विपदा आई हो उसके साथ ईस संकट की घड़ी मे जरूर खड़े हो और तन, मन, और धन से सहयोग करे और मृतक भोज का बहिस्कार करे।
गतांग

महाभारत युद्ध होने का था, अतः श्री कृष्ण ने दुर्योधन के घर जा कर युद्ध न करने के लिए संधि करने का आग्रह किया, तो दुर्योधन द्वारा आग्रह ठुकराए जाने पर श्री कृष्ण को कष्ट हुआ और वह चल पड़े, तो दुर्योधन द्वारा श्री कृष्ण से भोजन करने के आग्रह पर कहा कि

\'\'सम्प्रीति भोज्यानि आपदा भोज्यानि वा पुनैः\'\'

हे दुयोंधन - जब खिलाने वाले का मन प्रसन्न हो, खाने वाले का मन प्रसन्न हो, तभी भोजन करना चाहिए।
लेकिन जब खिलाने वाले एवं खाने वालों के दिल में दर्द हो, वेदना हो।
तो ऐसी स्थिति में कदापि भोजन नहीं करना चाहिए।

हिन्दू धर्म में मुख्य 16 संस्कार बनाए गए है, जिसमें प्रथम संस्कार गर्भाधान एवं अन्तिम तथा 16वाँ संस्कार अन्त्येष्टि है। इस प्रकार जब सत्रहवाँ संस्कार बनाया ही नहीं गया तो सत्रहवाँ संस्कार तेरहवीं संस्कार कहाँ से आ टपका।

इससे साबित होता है कि तेरहवी संस्कार समाज के चन्द चालाक लोगों के दिमाग की उपज है।
किसी भी धर्म ग्रन्थ में मृत्युभोज का विधान नहीं है।

बल्कि महाभारत के अनुशासन पर्व में लिखा है कि मृत्युभोज खाने वाले की ऊर्जा नष्ट हो जाती है। लेकिन जिसने जीवन पर्यन्त मृत्युभोज खाया हो, उसका तो ईश्वर ही मालिक है।

इसी लिए महार्षि दयानन्द सरस्वती,, पं0 श्रीराम शर्मा, स्वामी विवेकानन्द जैसे महान मनीषियों ने मृत्युभोज का जोरदार ढंग से विरोध किया है।

जिस भोजन बनाने का कृत्य जैसे लकड़ी फाड़ी जाती तो रोकर, आटा गूँथा जाता तो रोकर एवं पूड़ी बनाई जाती है तो रोकर यानि हर कृत्य आँसुओं से भीगा।
ऐसे आँसुओं से भीगे निकृष्ट भोजन एवं तेरहवीं भेाज का पूर्ण रूपेण बहिष्कार कर समाज को एक सही दिशा दें।

जानवरों से सीखें,

जिसका साथी बिछुड़ जाने पर वह उस दिन चारा नहीं खाता है। जबकि 84 लाख योनियों में श्रेष्ठ मानव,
जवान आदमी की मृत्यु पर हलुवा पूड़ी खाकर शोक मनाने का ढ़ोंग रचता है।

इससे बढ़कर निन्दनीय कोई दूसरा कृत्य हो नहीं सकता।

यदि आप इस बात से सहमत हों,
तो आप आज से संकल्प लें कि आप किसी के मृत्यु भोज को ग्रहण नहीं करंगे।
मृत्युभोज समाज में फैली कुरुति है व् विकसित समाज के लिये अभिशाप 🙏

समाज हित में.....🙏🙏

 
486
 
996 days
 
Anonymous

दुनिया का सबसे ख़तरनाक देश है इज़राइल, दुश्मन को पाताल से भी ढ़ूंढ़ निकालता है

पूरी दुनिया में इज़राइल ही एक ऐसा देश है, जहां सुख, शांति और सुरक्षा है. हालांकि, इज़राइल चारों तरफ़ से अपने दुश्मनों से घिरा हुआ है, मगर किसी भी देश की इतनी हिम्मत नहीं कि वो इज़राइल की तरफ़ आंख उठा कर भी देख ले. अगर किसी ने इस तरह की हिमाकत की भी, तो इज़राइल पलटवार करना जानता है. तकनीक, सुरक्षा, कृषि और देशभक्ति के मामले में इज़राइल का कोई सानी नहीं है. यह एक ऐसा देश है, जिससे विश्व के अन्य देश कुछ सीख सकते हैं. आइए, आपको इज़राइल के बारे में कुछ महत्वपूर्ण तथ्यों से रू-ब-रू करवाता हूँ

इज़रायल के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी

इज़रायल दुनिया का अकेला यहूदी राष्ट्र है. जनसंख्या के लिहाज़ से इज़राइल, दिल्ली के बराबर भी नहीं है और क्षेत्रफल के मामले में तीन इज़राइल मिल कर भी राजस्थान जितना नहीं है.

संस्कृति का रक्षक है इज़राइल

धर्म, संस्कृति और भाषा के लिए इज़राइल कुछ भी करने को तैयार रहता है. इज़राइल की भाषा हिब्रू दुनिया में इकलौती ऐसी भाषा है, जिसको पुनर्जन्म मिला है.

सैन्य ताकत के मामले में इज़राइल का कोई सानी नहीं है. अब तक 7 लड़ाइयां लड़ चुका है, जिसमें सभी में जीत मिली है. 7 देशों को अकेले इज़राइल ने हराया था, देखा जाए तो यह विश्व युद्ध से कम ना था. इस युद्ध में भी इज़रायल की जीत हुई.
इज़राइल ही दुनिया का एकमात्र देश है, जो जीडीपी के मामले में सर्वाधिक खर्च 'रक्षा क्षेत्र' पर करता है.
इज़राइल दुनिया का इकलौता ऐसा देश है, जो एंटी बैलिस्टिक मिसाइल डिफेंस सिस्टम से लैस है. इज़राइल के किसी भी हिस्से में रॉकेट दागने का मतलब है मौत.
इज़राइल की वायुसेना दुनिया में चौथे नंबर की वायुसेना है. यह किसी भी हमले की सूरत में न सिर्फ़ जवाब देने में सक्षम है. सिर्फ़ अमेरिका, रूस और चीन ही उससे आगे हैं.

इन वजहों के कारण इज़राइल है सबसे ताक़तवर देश
इज़राइल में सभी नागरिकों के लिए सैन्य प्रशिक्षण अनिवार्य है. यहां महिलाओं को भी सेना की ट्रेनिंग लेनी पड़ती है.
इज़राइल के पास अपना सैटेलाइट सिस्टम है जिसके इस्तेमाल से वो ड्रोन चलाता है. इज़राइल अपना सैटेलाइट सिस्टम किसी के साथ साझा नहीं करता.

तकनीक

ये देश घरेलू कंप्यूटर उपयोग के मामले में दुनिया में पहले नंबर पर है.
दुनिया में पहला फोन मोटोरोला कंपनी का इज़राइल में ही बनाया था.
माइक्रोसॉफ्ट के लिए पहला पेंटियम चिप यहीं ही बना था.
पहली वॉइस मेल तकनीक इज़राइल में ही विकसित की गई थी.
दुनिया में पहला एंटीवायरस सबसे पहले सन 1979 में इज़राइल में बना.

ऊर्जा और कृषि के मामले में ये देश आत्मनिर्भर है.
इज़राइल की 90 प्रतिशत आबादी सोलर एनर्जी का इस्तेमाल करती है.

 
310
 
875 days
 
Sam's Son

The price of crude oil, after having hit 20-year lows for a while, is now starting to rise again. With fuel (petrol, gasoline, diesel) prices in India linked to global oil tags, any change in international crude oil prices has a direct impact on our petrol price too.

Despite that, the price of petrol per litre in India is much lower than in several other nations. Apart from crude oil tags, factors that influence price of petrol are local taxes and duties, and the cost of living. This causes a wide variation in fuel prices across the world.

Check out what petrol costs per litre in some other countries.

All prices have been converted from the local currency to Indian rupees.


India (in New Delhi): Rs 67.48 per litre
Syria: Rs 70.86 per litre
Brazil: Rs 72.21 per litre
Morocco: Rs 72.88 per litre
Mauritius: Rs 73.56 per litre
Chile: Rs 74.91 per litre
Bulgaria: Rs 76.26 per litre
Bangladesh: Rs 76.93 per litre
Japan: Rs 77.61 per litre
Poland: Rs 78.28 per litre
Guinea: Rs 80.31 per litre
Serbia: Rs 81.66 per litre
Estonia: Rs 82.33 per litre
France: Rs 102.58 per litre
Germany: Rs 103.25 per litre
Turkey: Rs 103.93 per litre
Israel: Rs 108.65 per litre
The United Kingdom: Rs 110.68 per litre
Greece: Rs 110.68 per litre
The Netherlands: Rs 116.07 per litre
Hong Kong: Rs 125.52 per litre

 
63
 
939 days
 
Iphonee5

The act of saying few words of gratitude before eating your meals has a positive effect.

Every culture talks about saying positive words before eating - Christians say grace before their meals, Hindus chant a prayer and sprinkle water around it, Muslims also start eating only after chanting the name of the Divine.

An experiment carried out by scientists at the Institute of Noetic Sciences, examined the roles of intention and belief on mood while drinking tea. It explored whether drinking tea "treated" with good intentions would have an effect on mood more so than drinking ordinary tea.

 
58
 
787 days
 
Jasmine

माया सभ्यता के राज

वन में शहर
माया सभ्यता के लोगों ने जंगलों के भीतर अद्भुत शहर बनाए थे. ये शहर इतने बड़े थे कि इनमें एक लाख लोग रह सकते थे. लेकिन नौवीं सदी में अचानक ये शहर खाली हो गए है. क्यों, कुछ पता नहीं.

हैरतअंगेज निर्माण
16वीं सदी में जब बाकी दुनिया को इन शहरों का पता चला तो सब हैरान रह गए. विशेषज्ञों को यकीन ही नहीं हुआ कि माया सभ्यता के लोगों ने ये शहर कैसे बनाए होंगे.

माया कैलेंडर
माला कैलेंडर 2012 तक ही था. इससे बहुत से लोगों ने अनुमान लगाया कि 2012 के बाद दुनिया खत्म हो जाएगी. ऐसा कुछ नहीं हुआ.

कैसा था समाज
माया सभ्यता का समाज एक वर्गीकृत समाज था. लोग राजा को ईश्वर की आवाज मानते थे और उसके मंदिर बनाते थे. राजा की संतान को ही राज मिलता था.

दास नहीं थे
माया सभ्यता में दास प्रथा नहीं थी लेकिन युद्धबंदियों से खूब मजदूरी कराई जाती थी. कई बार उनकी बलि भी दे दी जाती थी.

मृत्यु के देवता
माया सभ्यता के हर तरह की मृत्यु के लिए अलग देवता था. हालांकि ज्यादातर देवता तो चित्रों में नाचते ही दिखते हैं. आज भी मेक्सिको में कंकालों के इर्द गिर्द नाचने का उत्सव होता है.

8000 देवता
माया सभ्यता के आठ हजार देवता थे. सबसे बड़ा देवता मक्के का था. उसके चित्र हर जगह थे.

कोकोआ
यहां कोकोआ की बड़ी कीमत थी. अमीर लोग कोकोआ को तोहफे में लेते देते थे. उत्सवों में इसका इस्तेमाल होता था.

गधे नहीं थे क्या?
दूसरी से नौवीं सदी के बीच माया सभ्यता में गधे, घोड़े और खच्चरों की जानकारी नहीं मिलती. लेकिन यह पेंटिंग एक भालू की है जो सामान उठा रहा है. क्या वे भालू पालते थे?

धातु तो थी
माया सभ्यता में धातु का इस्तेमाल होता था. लेकिन कलाकार मुखौटे बनाने के लिए पत्थरों का इस्तेमाल करते थे.

कहां गई सभ्यता
इस बारे में बहुत से सिद्धांत दिए गए हैं. लेकिन कोई सिद्धांतकार कुछ पुख्ता नहीं बता पाया है कि माया सभ्यता अचानक लापता कैसे हो गई.

 
82
 
816 days
 
Sam's Son

💐महान हस्तियों का जन्म💐
Jan...
12-1-1863 स्वामी विवेकानंद
28-1-1865 लाला लजपतराय
1-1-1894 जगदीश चंद्र बोंज
23-1-1897 सुभाष चंद्र बोंज
13-1-1949 राकेश शर्मा
20-1-1900 जनरल के.ऍम. करिअप्पा
------------------------------------------
Feb...

18-2-1486 महाप्रभु चेतन्य
18-2-1836 रामकुष्ण परमहंस
22-2-1873 मोहम्मद इकबाल
13-2-1879 सरोजिनी नायडु
29-2-1896 मोरारजी देसाइ
------------------------------------------
March...
15-3-1990 श्री महेन्द्र गढ़वाल
23-3-1910 डॉ. राममनोहर लोहिया
------------------------------------------
April...
8-4-1995 नवीन गुर्जर जी
15-4-1469 गुरु नानक देवजी
14-4-1563 गुरु अर्जुन देवजी
14-4-1891 डॉ.भीमराव आंबेडकर
------------------------------------------
May...

5-5-1479 गुरु अमरदास
31-5-1539 महाराणा प्रताप
6-5-1861 मोतीलाल नेहरु
7-5-1861 रविन्द्रनाथ टेगोर
9-5-1866 गोपालकृष्ण गोखले
24-5-1907 महादेवी वर्मा
2-5-1921 सत्यजित राय
------------------------------------------
Jun...

26-6-1838 बंकिमचंद्र चट्ट पाध्याय
16-6-1959 सतरामदास बजाज


------------------------------------------
July...

23-7-1856 लोकमान्य तिलक
31-7-1880 प्रेमचंद मुनशी
29-7-1904 जे. आर. डी. टाटा
------------------------------------------
Aug...

27-8-1910 मधर टेरेसा
29-8-1905 ध्यानचंद
------------------------------------------
Sept...

26-9-1820 ईश्वरचंद्र विद्यासागर
4-9-1825 दादाभाई नवरोजी
10-9-1887 गोविंद वल्लभ पंत
5-9-1888 डॉ. राधाकृष्ण
11-9-1895 विनोबा भावे
27-9-1907 भगतसिंह
15-9-1861 ऍम.विश्वसरेइया
15-9-1876 शरदचंद्र चटोपाध्याय
------------------------------------------
Oct...

1-10-1847 डॉ. ऐनी.बेसन्ट
2-10-1869 महात्मा गांधीजी
22-10-1873 स्वामी रामतीर्थ
31-10-1875 सरदार वल्लभभाई पटेल
31-10-1889 आचार्य नरेन्द्रदवे
11-10-1902 जयप्रकाश नारायण
30-10-1909 डॉ. होमी भाभा
19-10-1920 पांडुरंग शास्त्रीजी
आठवले पु. दादा
------------------------------------------
Nove...

13-11-1780 महाराणा रणजीतसिंह
4-11-1845 वासुदेव बळवंत फडके
7-11-1858 बिपिनचंद्र पाल
30-11-1858 जगदीशचंद्र बोज
5-11-1870 देशबंधु चितरंजनदास
11-11-1888 मौलाना आज़ाद
4-11-1889 जमनालाल बजाज
19-11-1917 श्रीमती इंदिरागांधी
23-11-1926 श्री सत्यसाई बाबा
4-11-1939 शकुंतलादेवी
12-11-1896 सलीमअली
------------------------------------------
Des...

9-12-1484 महाकवि सूरदास
25-12-1861 मदनमोहन मालविया
27-12-1869 ठक्कर बापा
7-12-1879 चक्रवर्ती राजगोपालचारी
3-12-1884 डॉ. राजेन्द्रप्रसाद
30-12-1887 कनैयालालमुनशी
11-12-1931 राजेन्द्रकुमार जेन ओसो रजनीश
22-12-1887 रामानुजम

 
334
 
905 days
 
Shubhiii

Elephants 🐘can smell water up to 3 miles away. They are also one of the three mammals that undergo menopause - the other two being humpback whales 🐋 and human females.

 
116
 
1058 days
 
Shubhiii

*Happiness can be divided into 3categories:*
*1. Physical happiness;*
*2. Mental happiness;*
*3. Spiritual happiness.*

These are brief summary of steps to take for achieving these in our lives:

*For Physical Happiness:*
a. Regular and proper *DIET*.
b. Regular and proper *REST*.
c. Regular and proper *EXERCISE*.

*For Mental Happiness:*
a. Minimize *Expectations*.
b. Minimize *Ego & Pride*.
c. Minimize *Negative Thoughts*.

*For Spiritual Happiness:*
a. Recognize your *SOUL* as a separate entity from the body.
b. Do not live in the *PAST*.
Free yourself of past memories
and experiences.
Do not worry about the *FUTURE*.

*BE HAPPY ALWAYS*

 
251
 
538 days
 
Jasmine
LOADING MORE...
BACK TO TOP