Amazing Info (504 | sorted randomly)

हमारे ऊँगलीयों के निशानों की तरह हमारी जुबान के भी निशान भिन्न होते है.

 
124
 
1434 days
 
Gaje Singh

#Fact
A person's ashes can be turned into a diamond. 💎

 
139
 
1437 days
 
Kooky_33

हमारे आविष्कार पड़ सकते हैं हम पर भारी, 2040 तक इंसानों से ज़्यादा अपराध करेंगे रोबोट्स

आने वाला समय हमारे लिए बहुत बुरा होने वाला है, पर कैसे? इसमें किसी और का कोई हाथ नहीं होगा, ये हमारा खुद का फैलाया हुआ जाल होगा, जिसमें हम बुरी तरह फंस जाएंगे. जिस तकनीक को हमने अपने कामों को आसान बनाने में किया है, वो ही एक दिन हमारे गले की हड्डी साबित होगी. RoboCop, Chappie, The Terminator जैसी फ़िल्में देख कर हमें अच्छा तो बहुत लगता है और हम उनकी इज्ज़त भी करने लगते हैं, पर ज़रा सोचिये अगर ये सही कामों की जगह गलत काम करने लगें तो?

'The Future Laboratory' में काम करने वाली Tracey कहती है कि 'हमारी कंपनी भविष्य के लिए योजनायें बनाती हैं और अपनी कंपनी के काम को देख कर हमें ऐसा लग रहा है कि आने वाले समय में कंप्यूटर जनित ये रोबोट्स इंसानों की नौकरियां भी हथिया लेंगे'.
चीफ स्ट्रेटेजी और इनोवेशन ऑफिसर Ms बताती हैं कि 'भविष्य में अपराध के बढ़ते आकड़ों के पीछे तकनीक की भूमिका अहम रहेगी. एक बार अगर रोबोट्स हैक कर लिए जाएं, तो ये किसी Suicide Bombing Machine से कम नहीं हैं. आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस मशीन लर्निंग टेक्नोलॉजी से इन रोबोट्स में सेल्फ प्रोग्राम क्रिमिनल एक्टिविटी Enable हो जाएगी. इस तरह 2040 तक ये मशीनें इंसानों से ज़्यादा क्राइम करती नज़र आएंगी'. मुश्किलें यहीं खत्म नहीं होतीं. रोबोट एक्सपर्ट्स का मानना है कि ड्राइवरलेस कार, ड्रोन और ऐसे कई रोबोटिक यंत्र भी कम खतरनाक नहीं हैं.

Intel में चीफ टेक्नोलॉजी ऑफिसर राज समानी बताते हैं कि वो दिन भी दूर नहीं है, जब हम किसी इन्सान को इन मशीनों के सामने लाचार देखें. अगर कोई इनको री-प्रोग्राम या हैक कर ले तो दुनिया भर में ये तबाही का जरिया बन सकती हैं. NCA के अनुसार, साइबर क्राइम पिछले वर्ष की तुलना में इस बार 53 प्रतिशत बढ़ गया है. अभी इन साइबर हैक और साइबर हमलों पर बेल्जियम में कई देशों की बैठक हुई थी.

क्या वाकई रोबोट्स इंसान पर हमला कर सकते हैं? क्या हमारी रचनाएं हम पर ही हावी हो जायेंगी? इन सब बातों का जवाब तो बस भविष्य में छिपा है. हम बस इंतज़ार कर सकते हैं और मशीनों का इस्तेमाल थोड़ा कम भी.

 
133
 
1018 days
 
Sam's Son

# spiders
#Facts
They are the largest order of Arachnids.
They are 7th in the world when it comes to diversity among their populations.

Antarctica is the only continent in the world where you can\'t find spiders.

Most spiders don\'t live in the bodies of water, only a few species. They are able to live in all other types of habitat.

They don\'t have antenna which is what separates them from insects.

There has only been one species identified as vegetarian the rest are all predators: Bagheera kiplingi.

Most spiders feature 4 sets of eyes. The pattern of how they are arranged though will depend on the species.

In some species, males are often much smaller than the females in size.

The number of eggs a female delivers can be up to 3,000.

Arachnophobia is the fear of Spiders. It is one of the most common fears in the world. It affects approximately 10% of men and 50% of women. The severity of the fear can vary.

The largest spider is the Giant Bird Eating Spider and the Huntsman spider is the world\'s largest spider by leg-span.

The smallest spider is the Patu digua endemic to Colombia.

The strongest material in the world is considered the silk that Spiders create. Scientists haven\'t been able to recreate this design even with all the technology we have today.

The Brazilian wandering spider or Banana spider, is the most poisonous of all Spiders.


The blood of a Spider is light blue in color.

The stickiness of a Spider web makes it hard to keep dust and particles out. This is why they are continually being rebuilt.

Spider\'s molt which is the process of shedding skin and growing new in its place.

Spiders are near sided so they aren\'t able to see items that are far away from them.

Hydraulic power is what allows the Spider to move around, they don\'t have muscles in their limbs.

Jumping Spiders are able to jump up to 50 times their own length. This is possible due to increasing the amount of blood pressure found in the back limbs.

When a Spider is moving there are always 4 legs on the surface and 4 off of it.

Spiderman is one of the most popular super heroes. This is also one of the few times that movies have portrayed the Spider positively other than in Charlottes Web.

Very few people die or become seriously ill from Spider bites. Yet there is enough media attention surrounding them when it does occur that it creates a frenzy.

Spiders are classified as invertebrates. They don\'t have a backbone.

There are believed to be at least 40,000 species of Spiders in the world.

Spiders help the environment by eliminating volumes of insects that would otherwise be around in your garden and other locations.

When a Spider is going to make a new web, they roll the old one up first into a ball. Many species will eat it. They extract juices from their body onto it so that it will be liquefied.

 
119
 
1369 days
 
GauravJD

128 साल पहले अमेरिकी विद्रोही ने Coca-Cola की खोज की थी, आज यह इंटरनेशनल ब्रांड है

ठंडा मतलब- Coca-Cola', ये हम बचपन से टीवी और रेडियो में इतना सुनते आए हैं कि हम ये मान चुके हैं कि 'ठंडा मतलब कोका-कोला ही होता है.' आज कोका-कोला एक इंटरनेशनल ब्रांड बन गया है. विश्व के सभी देशों में इसकी बिक्री होती है. इसकी वजह ये भी है कि ये इंसान को Chillax कर देता है. आइए, मैंो Coca-Cola के बारे में कई ऐसी बातें बताेताा ेहूँ जान कर आप हैरान हो जाएंगे.

Coca-Cola की खोज की दिलचस्प कहानी

Coca-Cola की खोज करने वाले एक अमेरिकी थे. उनका नाम जॉन स्टिथ पेमबर्टन था. सबसे दिलचस्प बात ये थी कि अमेरिकी गृहयुद्ध के समय जॉन विद्रोही आर्मी में कर्नल थे. इस गृहयुद्ध में वो बुरी तरह से घायल हो गए थे और उनका घायल होना ही Coca-Cola की खोज की वजह बना.

Coca-Cola को फ्रेंच वाइन प्रचारित कर बेचा गया.

आप ये बात सुन कर थोड़ा हैरान हो जाएंगे लेकिन ये सच है. 1885 में इसे फ्रेंच वाइन कह कर प्रचारित किया गया.

असली Coca-Cola 128 साल पुरानी है

वैसे तो Coca-Cola में कई तरह के प्रयोग किए गए. कई बदलावों के बाद ये 8 मई 1886 को लॉन्च हुआ था. यह 128 साल पुराना है.

कभी सेक्स पॉवर भी बढ़ाता Coca-Cola!

Coca-Cola को वाइन के फॉर्मूले से बनाया गया था. जब इसमें से एल्कोहल निकाल दिया गया, तो इसे सेक्स पॉवर को बढ़ाने वाला बताया गया. इसे ब्रेन टॉनिक तक कहकर बेचा गया.

कोक में कोकीन

जी हां! मेरे दोस्तों ये शत प्रतिशत सच्ची बात है. बात 1903 की है, जब Coca-Cola में कोकीन मिलाई जाती थी. लेकिन कुछ कारणों से 1904 में Coca-Cola में से कोकीन को अलग कर दिया गया.

Coca-Cola की कीमत है 2 रु.

अरे मैं आपसे कोई मज़ाक नहीं कर रहा हूं. Coca-Cola की वास्तविक कीमत सिर्फ 5 सेंट प्रति ग्लास, यानि 2 रुपये है. सच तो ये है कि ये बेहद सस्ती बनती है, पर विज्ञापन और ब्रांडिंग के कारण यह काफ़ी महंगी हो जाती है.

Coca-Cola को बेचने के लिए कुछ अनोखे तरीके

1930 में लोगों को Coca-Cola से जोड़ने के लिए सैंटा क्लॉज का सहारा लिया गया था.
oca-Cola ने 1916 तक चलताऊं तौर पर बोतलों में कोक बेची. पर 1916 में Coca-Cola ने बाजार में अपनी डिजाइन की गई बोतल उतारी. लोगों ने उसे हाथों-हाथ लिया.

यूं तो हर कंपनी चाहेगी कि उसके उत्पाद की बिक्री ज़्यादा से ज़्यादा हो. इसके लिए वे अपने प्रोडक्ट की ख़ासियत के बारे में बताते हैं.

 
118
 
1064 days
 
Sam's Son

Need to test a printer? Print the Google homepage, it has all the colors and uses almost no ink.

 
116
 
1220 days
 
anmol1707

#math fact
The number 2,520 can be divided by 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, and 10 without having a fractional leftover.

 
590
 
1399 days
 
Kooky_33

It should be well known. Share it
###########################
1: एक गज=3फूट
2: एक फलॉग=220 गज
3: एक मील में 1760 गज,
8फलॉग यानि 220*8=1760
4:एक कर्म=66इंच
5:-एक मर्ला=272 वर्ग फूट
6: कर्म का दूसरा नाम=सरसाही
7: एक मर्ला में=9 कर्म
8: एक कनाल में मर्ले=20
9: एक एकड़ मे मर्ले=160
10: एकड़ का दूसरा नाम=कीला
11: एक एकड़ में कनाल=8
12:एक एकड़ में कर्म=36*40=1440कर्म
13:एक कनाल में विसवासी=240
14:एक मर्ले मे बिसवासी=12
15:एक बिसवे मे बिसवासी=20
16:एक बीघे मे बिसवे=20
17:एक एकड़ मे बिसवे=96
18:एक एकड़ मे बीघे=4.8
19:एक कनाल में वर्ग मीटर=505*8385
20:एक एकड मे वर्ग मीटर=4046*7091
21:-एक बिलियन=एक अरब रुपये
22:एक फूट में =30.48 सैंटीमीटर
23: एक गज मे मीटर=0.9144
24:एक मीटर में इंच=39.3708
25:-एक मील में किलोमीटर=1.609
26:एक किलोमीटर मे=0.32137227 मील
27: एक वर्ग किलोमीटर मे=0391 वर्गमील
28:एक वर्ग मील में=2.59 वर्ग किलोमीटर
29:एक सैंटीमीटर=0.3937 इंच
30:एक मिलियन=10लाख रुपय
31:एक मीटरिक टन=10 किवंटल
32:-पक्का या शाहजहानी बीघा एक एकड़ का हिस्सा=5/8
33:कच्चा बीघा एक एकड़ का हिस्सा=5/24भाग
34: एक मीटर में इंच=39.3701
35: 99 इंच के कर्मों से जो बीघा बनता है उसे =पक्का या शाहजहानी बीघा कहते है
36:अगर एक कर्म 66 इंच का है तो एक बिसवे मे=15 बिसवासी होगें
37:-20 बिसवासों का एक विसवा बनें इसके लिये एक कर्म=57/157 इंच का
हो
38:बकदर का अर्थ=एक विस्वे के वर्ग फुट है
39:अनुपात हमेशा एक निरोल=राशि होती है
40:कर्म का दूसरा नाम=गट्ठा
41:जरीब बनी होती है=लोहे की नर्म कड़ियों से
42:-जरीब आमतौर पर कर्मों की होती है=10
43:-66 इंच कर्म वाली जरीब मे= 8कड़ियां होती है तथा इससे कम वाली इंच की जरीब में=7 कड़ियां होती है

 
219
 
1119 days
 
silent.-.love

क्या आप जानते हैं ?

1. यदि कोई ज्यादा तकियें लेकर सोता हैं तो इसका मतलब वह खुद को अकेला महसूस करता हैं

2. अगर कोई नाख़ून चबाता हैं तो इसका मतलब वह बहुत परेशान हैं

3. 90% लोगो का दिमाग ये सोचता हैं कि काश कुछ पल के लिए समय पीछे चला जाएं

4. जो लोग ज्यादा हँसते हैं वो ज्यादा दर्द सहन कर सकते हैं

5. लोग आपके बारे में अच्छा सुनने पर शक करते हैं लेकिन बुरा सुनने पर तुरंत यकीन कर लेते हैं

6. हम जो सोचते हैं उसका 90% हिस्सा सीधा हमारे मूड पर असर करता हैं एक गलत विचार पूरे मूड को खराब कर सकता हैं

7. किसी के साथ ज्यादा समय बिताने से आप उसकी आदतें अपनानें लगते हैं इसलिए सोच-समझकर दोस्त बनाएं

8. इंसान के लिए सबसे मुश्किल कामों में से एक हैं.. खुद को ये समझाना कि अब मुझे किसी की परवाह नही हैं

9. अगर एक व्यक्ति बहुत सोता हैं तो इसका मतलब हैं कि वह अंदर ही अंदर घुट रहा हैं और किसी बात से दुःखी हैं

10. यदि आप किसी के बारे में जागते हुए भी सपने देखते हैं तो इसका मतलब हैं आप उसे मिस कर रहे हैं

11. हम दिन की बज़ाय रात को आसानी से रो सकते हैं

12. खुशी का पहला आंसू दाहिनी आँख से और दुख का पहला आंसू बाईं आँख से निकलता हैं.

 
836
 
1026 days
 
Jasmine

कब तक हम इस लानत को अपने सिर पर ढोएँगे? दुनिया के भ्रष्टाचार मुक्त देशों में शीर्ष पर गिने जाने वाले न्यूजीलैंण्ड के एक लेखक ब्रायन ने भारत में व्यापक रूप से फैंलें भष्टाचार पर एक लेख लिखा है। ये लेख सोशल मीडि़या पर काफी वायरल हो रहा है। लेख की लोकप्रियता और प्रभाव को देखते हुए विनोद कुमार जी ने इसे हिन्दी भाषीय पाठ़कों के लिए अनुवादित किया है। -

*न्यूजीलैंड से एक बेहद तल्ख आर्टिकिल।*

*भारतीय लोग होब्स विचारधारा वाले है (सिर्फ अनियंत्रित असभ्य स्वार्थ की संस्कृति वाले)*

भारत मे भ्रष्टाचार का एक कल्चरल पहलू है। भारतीय भ्रष्टाचार मे बिलकुल असहज नही होते, भ्रष्टाचार यहाँ बेहद व्यापक है। भारतीय भ्रष्ट व्यक्ति का विरोध करने के बजाय उसे सहन करते है। कोई भी नस्ल इतनी जन्मजात भ्रष्ट नही होती

*ये जानने के लिये कि भारतीय इतने भ्रष्ट क्यो होते हैं उनके जीवनपद्धति और परम्पराये देखिये।*

भारत मे धर्म लेनेदेन वाले व्यवसाय जैसा है। भारतीय लोग भगवान को भी पैसा देते हैं इस उम्मीद मे कि वो बदले मे दूसरे के तुलना मे इन्हे वरीयता देकर फल देंगे। ये तर्क इस बात को दिमाग मे बिठाते हैं कि अयोग्य लोग को इच्छित चीज पाने के लिये कुछ देना पडता है। मंदिर चहारदीवारी के बाहर हम इसी लेनदेन को भ्रष्टाचार कहते हैं। धनी भारतीय कैश के बजाय स्वर्ण और अन्य आभूषण आदि देता है। वो अपने गिफ्ट गरीब को नही देता, भगवान को देता है। वो सोचता है कि किसी जरूरतमंद को देने से धन बरबाद होता है।

*जून 2009 मे द हिंदू ने कर्नाटक मंत्री जी जनार्दन रेड्डी द्वारा स्वर्ण और हीरो के 45 करोड मूल्य के आभूषण तिरुपति को चढाने की खबर छापी थी। भारत के मंदिर इतना ज्यादा धन प्राप्त कर लेते हैं कि वो ये भी नही जानते कि इसका करे क्या। अरबो की सम्पत्ति मंदिरो मे व्यर्थ पडी है।*

*जब यूरोपियन इंडिया आये तो उन्होने यहाँ स्कूल बनवाये। जब भारतीय यूरोप और अमेरिका जाते हैं तो वो वहाँ मंदिर बनाते हैं।*

*भारतीयो को लगता है कि अगर भगवान कुछ देने के लिये धन चाहते हैं तो फिर वही काम करने मे कुछ कुछ गलत नही है। इसीलिये भारतीय इतनी आसानी से भ्रष्ट बन जाते हैं।*

*भारतीय कल्चर इसीलिये इस तरह के व्यवहार को आसानी से आत्मसात कर लेती है, क्योंकि*

1 नैतिक तौर पर इसमे कोई नैतिक दाग नही आता। एक अति भ्रष्ट नेता जयललिता दुबारा सत्ता मे आ जाती है, जो आप पश्चिमी देशो मे सोच भी नही सकते ।

2 भारतीयो की भ्रष्टाचार के प्रति संशयात्मक स्थिति इतिहास मे स्पष्ट है। भारतीय इतिहास बताता है कि कई शहर और राजधानियो को रक्षको को गेट खोलने के लिये और कमांडरो को सरेंडर करने के लिये घूस देकर जीता गया। ये सिर्फ भारत मे है

भारतीयो के भ्रष्ट चरित्र का परिणाम है कि भारतीय उपमहाद्वीप मे बेहद सीमित युद्ध हुये। ये चकित करने वाला है कि भारतीयो ने प्राचीन यूनान और माडर्न यूरोप की तुलना मे कितने कम युद्ध लडे। नादिरशाह का तुर्को से युद्ध तो बेहद तीव्र और अंतिम सांस तक लडा गया था। भारत मे तो युद्ध की जरूरत ही नही थी, घूस देना ही ही सेना को रास्ते से हटाने के लिये काफी था। कोई भी आक्रमणकारी जो पैसे खर्च करना चाहे भारतीय राजा को, चाहे उसके सेना मे लाखो सैनिक हो, हटा सकता था।

प्लासी के युद्ध मे भी भारतीय सैनिको ने मुश्किल से कोई मुकाबला किया। क्लाइव ने मीर जाफर को पैसे दिये और पूरी बंगाल सेना 3000 मे सिमट गई। भारतीय किलो को जीतने मे हमेशा पैसो के लेनदेन का प्रयोग हुआ। गोलकुंडा का किला 1687 मे पीछे का गुप्त द्वार खुलवाकर जीता गया। मुगलो ने मराठो और राजपूतो को मूलतः रिश्वत से जीता श्रीनगर के राजा ने दारा के पुत्र सुलेमान को औरंगजेब को पैसे के बदले सौंप दिया। ऐसे कई केसेज हैं जहाँ भारतीयो ने सिर्फ रिश्वत के लिये बडे पैमाने पर गद्दारी की।

सवाल है कि भारतीयो मे सौदेबाजी का ऐसा कल्चर क्यो है जबकि जहाँ तमाम सभ्य देशो मे ये सौदेबाजी का कल्चर नही है

3- *भारतीय इस सिद्धांत मे विश्वास नही करते कि यदि वो सब नैतिक रूप से व्यवहार करेंगे तो सभी तरक्की करेंगे क्योंकि उनका "विश्वास/धर्म" ये शिक्षा नही देता। उनका कास्ट सिस्टम उन्हे बांटता है। वो ये हरगिज नही मानते कि हर इंसान समान है। इसकी वजह से वो आपस मे बंटे और दूसरे धर्मो मे भी गये। कई हिंदुओ ने अपना अलग धर्म चलाया जैसे सिख, जैन बुद्ध, और कई लोग इसाई और इस्लाम अपनाये। परिणामतः भारतीय एक दूसरे पर विश्वास नही करते। भारत मे कोई भारतीय नही है, वो हिंदू ईसाई मुस्लिम आदि हैं। भारतीय भूल चुके हैं कि 1400 साल पहले वो एक ही धर्म के थे। इस बंटवारे ने एक बीमार कल्चर को जन्म दिया। ये असमानता एक भ्रष्ट समाज मे परिणित हुई, जिसमे हर भारतीय दूसरे भारतीय के विरुद्ध है, सिवाय भगवान के जो उनके विश्वास मे खुद रिश्वतखोर है।*

लेखक-ब्रायन,
गाडजोन न्यूजीलैंड

( समाज की बंद आँखों को खोलने के लिए इस मैसेज को जितने लोगो तक भेज सकते हैं भेजने का कष्ट करें ।)
धन्यवाद 🙏🏻🙏🏻

 
133
 
460 days
 
DelhiDude
LOADING MORE...
BACK TO TOP