Message # 465302

ज़रा सोचो..

एक साधु, जो *एकांत में* वर्षों *लीन* रहकर साधना करके बिताता है,

उसे लोग *पूजते* है और *गुरू* मानते है!













लेकिन..

वहीं चीज़ें मैं *एकांत में* मोबाईल में *लीन* रहकर करता हूं..

तौ मुझे *गाली* दी जाती है! 🤬😡

*ऐसा भेदभाव क्युं ?!!* 😜😂

BACK TO TOP