Message # 465297

जो 'सामग्री' जीत की ख़ुशी के लिए
मँगा के रखी थी,


उसे ग़म में पी गये शास्त्रीजी !

😆😆😆😆😆😆😆😆

BACK TO TOP