Message # 462969

हम तो कुछ देने के काबिल ही कहाँ हैं,
हाँ कोई चाहे तो जीने की अदा ले जाये।

BACK TO TOP