Message # 461763

किसी को देख कर जीना गुनाह तो नहीं,
उसे सिर्फ ज़िन्दगी माना है, ख़ुदा तो नहीं
🌹🌹🌹

BACK TO TOP