Message # 461712

*छोड़ के शालीनता*
*बदतमीजियां करने लगे।*

*ऐ राजनीति तेरी खातिर*
*हम दोस्तों से लड़ने लगे।*

🙏🏻😊🌹

BACK TO TOP