Message # 460209

!! है बुझा-बुझा सा दिल, बोझ साँस-साँस पे

!! जी रहे हैं फिर भी हम, सिर्फ़ कल की आस पे

 
110
 
74 days
 
Paraskumar Pande
BACK TO TOP