Message # 458433

अब तेरी आँखों की गहराई देखनी है,
समंदर तो नाकाम रहा मुझे डूबाने में

BACK TO TOP