Message # 457269

*काबिल लोग*
*ना तो किसी से दबते है.*
*और ना ही किसी को दबाते है*
*जबाब देना उन्हें भी*
*खूब आता है.....पर*
*कीचड़ में पत्थर कौन मारे,*
*ये सोचकर चुप रह जाते है.!!*

*🌹.....,,,,,,,,,.....🌹*

 
231
 
155 days
 
anil Manawat
BACK TO TOP