Message # 456279

*ज़िंदगी सँवारने को*
*तो ज़िंदगी पड़ी है,*

*चलो वो लम्हा सँवार लेते है*
*जहाँ ज़िंदगी खड़ी है.*🙏

BACK TO TOP