Message # 454285

विचारणीय है अगर विचार करने की क्षमता हो तो....

पटाखे 500/ के हों या 5000/ या और अधिक...
होंगे सब स्वाहा ही....

हवन सामग्री 5/की हो या 500/की, होगी वो भी स्वाहा ही....

पटाखों की गूँज सिर्फ कुछ समय के लिए कानों में रहेगी....

मगर यह अटल सत्य है कि इतने पैसों से कई लोगों का पेट भर सकता है, और उनकी दुआएं काफी समय तक साथ रहेंगी।

Comments

@Jasmine: aila angel priya
 
Mhd Therapist
 
5 days
7
@Jasmine: पहले फटाखे तुम्हारी आंख में खटकते थे अब हवन भी.....याद रखना शांत है तो #श्रीराम है !!
!! भड़क गए तो #परशुराम है !!
 
RMY
 
7 days
6
@Jasmine: 😎😎😎

*Diwali is gone now. Pollution has increased. Let\'s pledge to save mother earth now. Pledge that you won\'t burst any crackers on Christmas eve or New Year; let\'s pledge to use public transportation only; let\'s pledge to eat no meat on Eid or Bakrid. Save the earth now.*
 
TRENDED POSTS
 
7 days
5
उचित पात्र,, अच्छा।याअनाथो को दिया।।तो नही तय करेगा।बोत समझदार बैठे हैं।व्हाट यू done।थिंक ओवर that
@Jasmine:
 
दद्दू
 
7 days
4
@दद्दू [1]: भाई, दान और लंगर उचित पात्र को दें। मैंने नेताओं को इस संदेश से नहीं जोड़ा।
 
Jasmine
 
7 days
3
वेसे तो हम दान पूण भी करते है।भंडारे लंगर केवल हम ही लोग करवाते है। और फटाके किसी की बाप का नही है।ज्ञान अपने नेताओ को देना जो गबन करके स्विस बैंक में भरते है
@Jasmine:
 
दद्दू
 
7 days
2
वेसे तो हम दान पूण भी करते है।भंडारे लंगर केवल हम ही लोग करवाते है। और फटाके किसी की बाप का नही है।ज्ञान अपने नेताओ को देना जो गबन करके स्विस बैंक में भरते है
@Jasmine:
 
दद्दू
 
7 days
1
LOADING MORE COMMENTS...
BACK TO TOP