Message # 453944

*रिश्तों में समर्पण होता है.. गिनती नहीं*

*और इतिहास साक्षी है...*

*रिश्तों में ज़ब-ज़ब गिनती हुई है..*

*तब-तब परिणाम "माइनस" में हीं आयें है!*

🙏🙏🙏

BACK TO TOP