Message # 452830

पेड़ कटते गए,
फिर न जाने मेरे शहर जंगल सा क्यों है।

BACK TO TOP