Message # 452458

तुम बना के लाई थीं जो पहली मर्तबा,
सारे जहाँ से मीठी थी वो फीकी चाय भी ♥️

BACK TO TOP