Message # 451606

*"खता मत गिन दोस्ती में, कि किसने क्या गुनाह किया ..."*

*"दोस्ती तो एक नशा है, जो तूने भी किया और मैंने भी किया ..."*

BACK TO TOP