Message # 451356

*हे अबोध,*

*कर्म का वजन उतना ही इकट्ठा करना,*

*कि अन्त समय में उठाना आसान हो जाये*🙏

BACK TO TOP