Message # 451308

*किसने कहा, मेरे दिल में मेहमान बन के आया कर.*

*ऐ-दोस्त,ये तेरी सल्तनत है, जब भी आए, सुलतान बनके आया कर*

BACK TO TOP