Message # 451168

*ज़रूरी नहीं कि आज़ के ज़माने में आप "श्रवणकुमार" बने*

*"अपने मातापिता से "ऊंची आवाज़ में" बात नहीं करें"*

*उनकें लिये तों बस "ईतना हीं" काफ़ी होता हैं!*

🙏 *॥ आपका दिन शुभ रहें ॥* 🙏

BACK TO TOP