Message # 449678

मरती रही बच्चियाँ एक रोटी की आस में,

बहती रही शराब केजरीवाल के ग्लास में।

#DarubaazKejri
spend 80k on wine

Comments

*"मै तो छोटा आदमी हूं जी, मेरी क्या औकाद"*
बोलने वाले लोग आज 2 घंटे मे ₹80,000 की दारू गटक रहें हैं
 
Anti terrorist
 
124 days
1
LOADING MORE COMMENTS...
BACK TO TOP