Message # 449537

*परमात्मा भाग्य नहीं लिखता,*

*जीवन के हर कदम पर हमारी सोच, हमारे बोल, वह हमारे कर्म ही हमारा भाग्य लिखते हैं |*🙏

 
241
 
12 days
 
anil Manawat
BACK TO TOP