Message # 449447

मर गए हम.. खुली रही आँखे...

ये तेरे इंतज़ार की हद थी...

BACK TO TOP