Message # 449084

ये किस मुकाम पर सूझी तुझे बिछड़ने की...

अब तो जा के कहीं दिन सँवरने वाले थे...

BACK TO TOP