Message # 449045

*अधेड़ पति-पत्नि*

पति:- सुनो.. तुम्हें याद है, तुम मुझपे हंमेशा *एक एहसान* किया करती थीं

पत्नि:- *कौनसा ?*

पति:- यही कि *मैं तो "बच्चों की वज़ह से" टिकी हुई हूं.. वर्ना कबकी "निकल" जाती*

पत्नि:- *हा वो तो बिलकुल सहीं है*

पति:- तो देख.. *सारे बच्चें ब्याह लियें.. अब तो निकल लें !!*
😜😈😝😂😂😂😂😂

BACK TO TOP