Message # 448435

ख़्वाईशों के बोझ में..
तू क्या क्या कर रहा है,
इतना तो जीना भी नहीं..
जितना तू मर रहा है !!

🙏

BACK TO TOP