Message # 448197

तेरी खुदाई मे ऐसा उलझा हुँ साथी मेरे...
ना दिन अपने हैँ.... ना रात मेरे..

BACK TO TOP