Message # 448165

अपने दिमाग को सुई की तरह इतना
छोटा भी मत रखो
की नई सोच का धागा पिरोना
भी मुश्किल सा लगे

BACK TO TOP