Message # 448127

मेरे हाथों में कुछ भी तो नहीं , फिर छूटता क्या है ?

कोई अपना बिछुड़ता है तो , भीतर टूटता क्या है ?

BACK TO TOP