Message # 448092

मुआवजा पाया है मैंने तुम्हें पाकर..
उमर् भर की तनहाइयों से....

BACK TO TOP