Message # 447688

*महफ़िल में गले मिल के*
*वो धीरे से कह गए*,

*ये दुनिया की रस्म है,*
*इसे मोहब्बत न समझ लेना*

BACK TO TOP