Message # 446746

*हृदय से गुरुसुमिरन किया तो*
*आवाज गुरुजी तक जायेगी ।*
*गुरुजी ने जो सुन ली हमारी*
*तो सचखण्ड की चाबी मिल जायेगी ।*

*जय गुरू जी*🙏

BACK TO TOP