Message # 446646

*कसक भी, टीस भी, गम भी, नज़र भी, जान भी, दिल भी*

*बड़ी गुलज़ार रहती है अकेलेपन की महफ़िल भी*

BACK TO TOP