Message # 446568

मज़बूरी में सुनने 🗣️पड़ते हैं साहब लोगो के ताने अक़्सर,
कोई भी शख़्स इस जहां में शौक से🤧 रुसवा नहीं होता...

BACK TO TOP