Message # 446512

कागज की *कश्ती* में..
सवार है हम

फिर भी *कल* के लिए
परेशान है हम।

BACK TO TOP