Message # 446407

💔आरजू नहीं के ग़म का तूफान टल जाये... फ़िक्र तो ये है तेरा दिल न बदलजाये....
भुलाना हो अगर मुझको तो एक एहसान करना....
दर्द इतना देना कि मेरी जान निकल जाये. 💔💔💔

BACK TO TOP