Message # 446346

*जलाने पड़ते हैं ज़ख्म*
*साँसों की ड़ोर तक*

*यूँ ही कोई गुलज़ार या*
*ग़ालिब नहीं होता*🙏

BACK TO TOP