Message # 446311

🌺🌿🌺🌿🌺🌿🌺🌿🌺🌿🌺
मुँह से निकले हुए शब्दों के आप दास हैं ,
मुँह के अन्दर, शब्दों के आप स्वामी हैं !
🌺🌿🌺🌿🌺🌿🌺🌿🌺🌿🌺

BACK TO TOP