Message # 446218

संभल कर किया करो, गैरों से हमारी बुराई,
तुम्हारे जो अज़ीज़ है, वो हमारे मुरीद है साहिब..

BACK TO TOP