Message # 446013

मेरे लफ़्ज़ों पर रूठने वाले
अब तू मेरी ख़ामोशी पर जश्न मना।

 
317
 
229 days
 
Mirza Galib
BACK TO TOP