Message # 445534

☘🌼☘🌼☘🌼☘🌼☘🌼☘🌼
"मेरे साँईनाथ" अजीब बंदिश है तेरे प्रेम की, ना तूने कभी हमें कैद में रखा, और ना ही कभी हम फ़रार हो पाए!
"मेरे बाबा" इसलिए :- तो लोग कहते हैं कि, जिनके "साईं" से रिश्ते गहरे होते हैं, उनकेे आज और कल दोनों सुनहरे होते हैं!!(साईं)🙏🏻🙏🏻
🌼☘🌼☘🌼☘🌼☘🌼☘🌼☘

BACK TO TOP