Message # 445060

#मन को #बाँध लिया #है यूँ #तुमने,

जैसे #साँसो की #डोरी तुमसे #बँधी हो

 
146
 
131 days
 
Parveen Unlucky
BACK TO TOP