Message # 445006

है कोशिश यही हो मुलाकात तुमसे, ना इजाज़त सनम की, ना दीदार मुमकिन।

हैं निकले जनाब ऐसे रस्ते पे हम-तुम, साथ चलना भी मुश्किल बिछुड़ना ना-मुमकिन ।।

 
157
 
211 days
 
Parveen Unlucky
BACK TO TOP