Message # 444942

उलझा रहता हूँ हर शाम इसी कश्मकश में...🤔

लिखूं तेरे लिए या फिर वो जो तुझे पसंद आये।

BACK TO TOP